ठाणे में धोकादायक इमारतों के पुनर्विकास का खुला मार्ग

ठाणे में धोकादायक इमारतों के पुनर्विकास का खुला मार्ग 

स्लम (टीडीआर) नियमशर्ते रद्द, नगरविकास विभाग की हरीझंड्डी

ठाणे : ६ अगस्त : ठाणे भाजपा के विधायक संजय केलकर द्वारा प्रयास के बाद धोखादायक इमारतों के पुनर्विकास करने का यश ठाणेकर कों मिल गया, भाजपा विधायक ने  मांग करते हुए नगरविकास विभाग को अनेक बार पत्र लिखा था कि ठाणे महानगरपालिका क्षेत्र में धोखादायक इमारतों के पुनर्विकास के दौरान स्लम(टीडीआर)जैसी शर्तो को रद्द किया जाय.

गौरतलब हो कि ऐसी शर्तो से राज्य सरकार स्लम टीडीआर के नियमों से ठाणे के अधिकृत धोकादायक इमारतों के पुनर्वसन में अड़चन आ रहा थी ,क्योकि पुनर्विकास के लिए कम से कम २०% स्लम (टीडीआर)का उपयोग होना जरुरी था.लोगों का ऐसा कहना है यह किसी भी प्रकार से व्यवहारिक नहीं है जिसके कारण ठाणेमहानगरपालिका के क्षेत्र में नए टीडीआर का निर्माण भी हुआ.

आपको पता है कि स्लम टीडीआर के नियम शर्तो से अनेक विकासकाम स्थगित हो चुका है क्योकि स्लम टीडीआर लेने के लिए अनेक कागज का समावेश होता हैजिसकों पूरा करते करते व्यवसायिक के पशीना छूट जाते है इसके अलावा व्यवसायिको कों टीडीआर खरीदीकर पुनर्विकास करने में कोई ज्यदाफायदा नहीं दिखता है जिसके कारण बांधकाम व्यवसायिक पुनर्विकास के कामों इंटरेस्ट नहीं दिखा रहे है इसके कारण ठाणेमहानगरपालिका में लगभग चार हजार पाच सौ सात धोखादायक इमारतों के पुनर्विकास का काम ठप पड़ा हुआ है टीडीआर का नियम रद्द करने के लिए ठाणे के विधायक संजय केलकर मुख्यमंत्री और नगरविकास विभाग के अधिकारियो से अनेक बार चर्चा किया ,जिसके फलस्वरूप विधायक केलकर कों आज सफलता मिली. महाराष्ट्र सरकार के नगरविकास विभाग ने स्लम टीडीआर नियम को रद्द करते हुए पत्र द्वारा यह अवगत कराया है कि यदि ठाणेमहानगरपालिका क्षेत्र में झोपड़पट्टी हस्तातरण विकास हक्क (स्लम टीडीआर) उपलब्ध नहीं होता है तो नियमित हस्तातरण विकास हक़ का इस्तेमाल किया जा सकता है.